न्यू शायरी

अन्य

रिश्तों में जब झूठ बोलने की आवश्यकता होने लगे तो समझ लेना.....


तेरे इनकार करने की वजह बता दे बस....


मेरी आँखों की औकात नहीं की किसी लड़की को घूरकर देखे....


दर्द सहने की अब कुछ यूँ आदत सी हो गयी है....


ऐ दिल तू समझ कर ना यार....


मुस्कुराने वाले खुश हों ये जरुरी तो नहीं...