न्यू शायरी

ज़िन्दगी को समझने में वक़्त ना गुज़ार...


0 comments:

एक टिप्पणी भेजें